विद्याभारती E पाठशाला

सुरस सुबोधा विश्‍वमनोज्ञा ललिता हृद्या रमणीया

सुरस सुबोधा विश्‍वमनोज्ञा ललिता हृद्या रमणीया
अमृतवाणी संस्‍कृतभाषा नैव क्लिष्‍टा न च कठिना ।।

कविकुलगुरु वाल्मीकि विरचिता रामायण रमणीय कथा
अतीवसरला मधुर मंजुला नैव क्लिष्टा न च कठिना ।।

व्‍यास विरचिता गणेश लिखिता महाभारते पुण्‍य कथा
कौरव पाण्‍डव संगर मथिता नैव क्लिष्‍टा न च कठिना ।।

कुरुक्षेत्र समरांगणगीता विश्‍ववंदिता भगवद्गीता
अतीव मधुरा कर्मदीपिका नैव क्लिष्‍टा न च कठिना ।।

कवि कुलगुरु नव रसोन्‍मेषजा ऋतु रघु कुमार कविता
विक्रम-शाकुन्तल-मालविका नैव क्लिष्‍टा न च कठिना ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *